मध्य प्रदेश

जिला कार्यक्रम अधिकारी पर लगा रिश्वतखोरी का गंभीर आरोप ?

काम दिलवाने की एवज में लिये तीन लाख रूपये

काल चिंतन कार्यालय
वैढ़न,सिंगरौली।  एकीकृत महिला एवं बाल विकास योजना के तहत आंगनवाड़ी केन्द्रों में ० से ६ वर्ष तक की आयु के बच्चों को भोजन बनाकर देने वाली स्व-सहायता समूहों की महिलाओं ने महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी व साझा चूल्हा प्रभारी श्री राजेश गुप्ता पर तीन लाख रूपये रिश्वत लेने के गंभीर आरोप लगाये हैं। कमला, पदमा, मोनिका, पूजा महिला स्व-सहायता समूहों के संचालकों ने लिखित रूप से आरोप लगाया है कि आंगनवाड़ी केन्द्रों में भोजन प्रदाय हेतु काम देने की एवज में उक्त अधिकारी ने कथित रूप से उनसे तीन लाख रूपये लिये और कहा कि खर्चा बर्चा लगता है, इसलिए पैसा दे दोगी तो काम दे दिया जायेगा।

महिलाओं ने बताया कि चार समूहों से पचास-पचास हजार रूपये तथा एक समूह से एक लाख रूपये लेकर कार्यक्रम अधिकारी ने इन्हें काम नहीं दिया। उनका यह भी आरोप है कि कार्यक्रम अधिकारी की मांग के अनुसार दूसरे समूहों के अध्यक्षों से अधिक पैसा लेकर उनको साझा चूल्हा का काम आवंटित कर दिया। जबकि शिकायतकर्ताओं के समूहों के पास वांछित दस्तावेज मौजूद थे। महिलाओं ने कार्यक्रम अधिकारी से त्रस्त होकर उनकी शिकायत सीएम हेल्पलाईन में भी की। जब सीएम हेल्पलाईन की जांच आयी तो कार्यक्रम अधिकारी ने इन्हें बुलाकर कहा कि अपनी शिकायत बन्द करवा दो, उन लोगों को काम दिया जायेगा अन्यथा उनका पैसा वापस कर दिया जायेगा। आश्वासन के बावजूद भी कार्यक्रम अधिकारी ने उन महिलाओं को काम नहीं दिया। जबकि उनके पास २०१२-१३ से इस काम का पर्याप्त अनुभव प्राप्त था। महिलाओं का आरोप है कि अब गुप्ता जी से पैसा मांगने पर उनके द्वारा उन्हें उठवा लेने की धमकी दी जा रही है।

उल्लेखनीय है कि शिकायतकर्ता महिलाएं विधवा एवं बेसहारा हैं। उनके घर का काम-काज इसी सेवा से चल रहा था। उन्होने कलेक्टर महोदय से निवेदन किया है कि मामले की जांच करवाकर उनको न्याय दिलाने का कष्ट करें।

यह समाचार पढिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Live TV