मध्य प्रदेश

हड़ताल पर गए 24 पर्यवेक्षकों व परियोजना अधिकारियों को कलेक्टर ने किया निलंबित

 

वैढ़न,सिंगरौली। महिला बाल विकास के अधिकारी व कर्मचारी हड़ताल पर हैं। बार बार हिदायत देने के बावजूद हड़ताल समाप्त नहीं किये जाने पर कलेक्टर सिंगरौली ने सख्ती दिखाते हुये हड़ताल पर गये २४ पर्यवेक्षकों व परियोजनाअ अधिकारियों को निलंबित कर दिया है।

महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के काम बंद हड़ताल पर जाने से लाडली बहना योजना के पंजीयन का काम पूरी तरह से प्रभावित हो रहा था। कई दिनों से चल रही हड़ताल एवं लंबित मांगों को लेकर महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारियों पर्यवेक्षकों के काम बंद हड़ताल कई दिनों से पूरे प्रदेश में चल रही है। हड़ताल की वजह से लाडली बहना योजना सहित अन्य विभागीय काम प्रभावित हो रहे हैं।

देशव्यापी हड़ताल की वजह से सभी जिलों में लाडली बना योजना का काम प्रभावित हो रहा है लेकिन सरकार द्वारा हड़ताली कर्मचारियों से किसी तरह की बातचीत नहीं की गई है। हड़ताली कर्मचारियों पर निलंबन की कार्रवाई होने के बाद हड़ताली कर्मचारियों पर काम पर वापस आते हैं या फिर हड़ताल और प्रभावी तरीके से करते हैं। यह एक-दो दिन में स्पष्ट हो जाएगा। हड़ताल पर गए पर्यवेक्षकों को काम पर वापस लौटने और शासकीय कार्य का समय पर निर्वहन किए जाने का नोटिस दिया गया था। नोटिस दिए जाने के बाद भी जब पर्यवेक्षक काम पर नहीं लौटे तो उनको निलंबित कर दिया गया है।

निलंबन की कार्यवाही पर्यवेक्षक शोभना साहू, सैबया दुबे, मीनाक्षी शुक्ला, प्रवीण गुप्ता, बिंदु उईके, पूर्णिमा अर्जुन , पिंकी मरकाम, पूजा सलाम, स्मिता साहू, आशा संध्या देवी, नुसरत जहां, ट्विंकल मर्सकोले, आरती सिंह, दहिया देवी, लक्ष्मी सल्लाम, शिववती गुरु, उषा तिवारी, संगीता मार्को, सरोज सोनवानी, वैशाली कुशराम, मीना चतुर्वेदी एवं ललिता कुंडापे शामिल है।

यह समाचार पढिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Live TV