राष्ट्रीय

चंद्रयान-3: चांद से धरती का हाल बताएगा, अंतरिक्ष की पहेली सुलझाएगा

नई दिल्ली: भारत नया अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-3 लॉन्च कर रहा है. भारत चंद्रमा पर दूसरी बार सॉफ्ट लैंडिंग का प्रयास करेगा। मिशन शुक्रवार को दोपहर 2.30 बजे लॉन्च किया जाएगा. लॉन्च से लेकर चांद पर उतरने तक का पूरा मिशन इसरो संभालेगा। इससे पहले भारत ने 22 जुलाई 2019 को चंद्रयान-2 मिशन लॉन्च किया था। इसके बाद अंतरिक्ष यान चंद्रमा तक आसानी से पहुंच गया, लेकिन सतह पर उतरने से ठीक पहले कुछ खराबी आ गई और मिशन विफल हो गया।

यह मिशन 3 साल 11 महीने और 23 दिन बाद दोबारा लॉन्च किया जा रहा है। विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर को चंद्रमा की सतह पर भेजा जाएगा। लेकिन वैज्ञानिक इस मिशन से क्या चाहते हैं? अगर इस मिशन के लक्ष्य की बात करें तो चंद्रयान-3 अंतरिक्ष में कई वैज्ञानिक पेलोड लेकर जाएगा। इससे पृथ्वी पर वैज्ञानिकों को चंद्रमा को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलेगी। लेकिन मिशन के तीन मुख्य लक्ष्य हैं।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के मुताबिक, वैज्ञानिक चंद्रयान-3 से तीन मुख्य लक्ष्य पूरा करना चाहते हैं। वैज्ञानिक सबसे पहले चांद की सतह पर सुरक्षित और सॉफ्ट लैंडिंग कराना चाहते हैं. चंद्रयान-2 मिशन भी सॉफ्ट लैंडिंग के लिए था. इसके बाद इसरो वैज्ञानिक चंद्रमा की सतह पर रोवर चलाना चाहते हैं। आख़िरकार वैज्ञानिक चंद्रमा पर कई प्रयोग करना चाहते हैं, जिसके लिए कई उपकरण भेजे जाएंगे. अंतरिक्ष यान के साथ एक विशेष उपकरण भी होगा जो चंद्रमा से पृथ्वी का निरीक्षण करेगा और उसकी जीवन विशेषताओं का अध्ययन करेगा।

यह अध्ययन भविष्य में सौर मंडल के बाहर ग्रहों को खोजने और उन पर जीवन की खोज में महत्वपूर्ण होगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक, विक्रम लैंडर में चार पेलोड होंगे। पृथ्वी पर भूकंप की तरह चंद्रमा में भी कंपन होता है। इसकी स्टडी एक डिवाइस से की जाएगी. दूसरा उपकरण पृथ्वी और चंद्रमा के बीच की सटीक दूरी निर्धारित करेगा। तीसरा उपकरण प्लाज्मा वातावरण का अध्ययन करेगा। चौथा उपकरण यह मापेगा कि चंद्रमा की सतह अपने माध्यम से गर्मी को कैसे प्रवाहित होने देती है। चंद्रमा की सतह की संरचना को समझने के लिए प्रज्ञान रोवर पर एक्स-रे और लेजर का उपयोग किया जाएगा। लैंडिंग के लिए चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास के क्षेत्र को चुना गया है। इस क्षेत्र में छाया वाले गड्ढे हैं, जिनमें पानी के अणु होने की संभावना है।

यह समाचार पढिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Live TV