राष्ट्रीय

जिन्होंने विभाजन की विभीषिका झेली उन्हें नमन-पीएम मोदी

नई दिल्ली. भारत आज यानी 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस मना रहा है. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ‘आज, विभाजन भयावह स्मृति दिवस पर मैं उन सभी लोगों को श्रद्धांजलि देता हूं, जिन्होंने विभाजन के दौरान अपनी जान गंवाई, और हमारे इतिहास के उस दुखद दौर में पीड़ित सभी लोगों के धैर्य और दृढ़ता की सराहना करता हूं.’

भारतीय जनता पार्टी ने एक खास वीडियो जारी कर देश के विभाजन के लिए कांग्रेस पर निशाना साधा है. भाजपा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से वीडियो जारी करते हुए लिखा गया, ’14 अगस्त का दिन विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में हमें भेदभाव, वैमनस्य और दुर्भावना के जहर को खत्म करने की न केवल याद दिलाएगा, बल्कि इससे एकता, सामाजिक सद्भाव की भावना भी मजबूत होगी. आइए, उन वीर सपूतों को नमन करें, जिन्होंने विभाजन की विभीषिका झेली है.’ 14 अगस्त का दिन ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप में हमें भेदभाव, वैमनस्य और दुर्भावना के जहर को खत्म करने की न केवल याद दिलाएगा, बल्कि इससे एकता, सामाजिक सद्भाव की भावना भी मजबूत होगी।

भाजपा ने कहा, ‘जिन लोगों को भारत की सांस्कृतिक विरासत, सभ्यता, मूल्यों, तीर्थों का कोई ज्ञान नहीं था, उन्होंने मात्र 3 सप्ताह में सदियों से एक साथ रह रहे लोगों के बीच सरहद की लकीरें खींच दी. उस समय कहां थे वे लोग जिन पर इन विभाजनकारी ताकतों के खिलाफ संघर्ष करने की जिम्मेदारी थी.’ भारत 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है, वहीं पाकिस्तान 14 अगस्त को अपनी आजादी का दिवस मनाता है. 14 अगस्त 1947 को ही भारत को विभाजन हुआ था और पाकिस्तान को अलग राष्ट्र घोषित कर दिया गया था.

देश के बंटवारे के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता। नफरत और हिंसा की वजह से हमारे लाखों बहनों और भाइयों को विस्थापित होना पड़ा और अपनी जान तक गंवानी पड़ी। उन लोगों के संघर्ष और बलिदान की याद में 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के तौर पर मनाने का निर्णय लिया गया है।

इतिहास में 14 अगस्त एक ऐसी तारीख है जिस दिन भारत मां के सीने को छलनी कर दिया गया था. इस दिन के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता. इस दिन की ‘विभीषिका और भयावहता’ की याद में पीएम मोदी ने पिछले साल यानी 2021 में 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप मनाने का भी ऐलान किया था. उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि बंटवारे में विस्थापित होने वाले और जान गंवाने वाले हमारे लाखों बहनों और भाइयों के संघर्ष और बलिदान की याद में 14 अगस्त को विभाजन ‘विभीषिका स्मृति दिवस’ के तौर पर मनाने का फैसला लिया गया है.
Source : palpalindia

यह समाचार पढिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Live TV